ईस्ट इंडिया कंपनी: जो कभी किया करती थी भारत पर राज, उसे ही एक भारतीय व्यापारी ने मात्र 20 मिनट में खरीद लिया।

0
199

Ainnews1.com: भारत पर कई सौ सालों तक राज करने वाली ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम से तो आप सभी परिचित होंगे। ये वही कंपनी हैं, जिसने लगभग 200 साल तक भारत पर राज किया। इस बीच, लाखों भारतीय वर्षों से ईस्ट इंडिया कंपनी के गलत फैसलों के शिकार भी हुए हैं। अपने ही देश में हमें अंग्रेजों का भयानक दमन सहना पड़ा। लेकिन देश के क्रांतिकारियों ने इसे कतई भी स्वीकार नहीं किया। इसीलिए 1857 में देश के वीर क्रांतिकारियों ने स्वतंत्रता संग्राम का बिगुल बजाया।आज भारत पर बरसों तक राज करने वाली ईस्ट इंडिया कंपनी की कमान एक भारतीय ने अपने हाथ में ले ली है. आजादी से पहले निर्दोष भारतीयों को अत्यधिक नुकसान पहुंचाने वाली कंपनी भी, जब आज समय का चक्र चला गया है तो एक भारतीय व्यापारी ने ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ को ही खरीद लिया है और अंग्रेजों को गहरे घाव दिए हैं। इस भारतीय बिजनेसमैन का नाम संजीव मेहता है।संजीव मेहता की इस डील के बारे में जानने से पहले आइए जानते हैं ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ का इतिहास क्या रहा है। वह ई.पू. 1600 में शुरू हुआ। इस दौरान किसी ने सोचा भी नहीं था कि एक दिन यह कंपनी पूरी दुनिया पर एक छत्र राज करेगी। ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ की शुरुआत समुद्र के रास्ते दुनिया के दूसरे देशों से ब्रिटेन तक सामान पहुंचाकर की गई थी। 17वीं शताब्दी में ही ईस्ट इंडिया कंपनी ने व्यापारिक उद्देश्यों के लिए भारत में भी कदम रखा था। इस दौरान भारत ने यूरोपीय देशों को चाय, मसाले और कई अन्य वस्तुओं का निर्यात करना शुरू किया जा चूका था। यह ज्ञात नहीं है कि ईस्ट इंडिया कंपनी ने ना जाने कब दुनिया के 50% व्यापार पर कब्जा कर लिया। इस दौरान ब्रिटिश सरकार ने ईस्ट इंडिया कंपनी के माध्यम से इतनी संपत्ति अर्जित की कि उसने भारत सहित कई देशों पर ही कब्जा कर लिया। लगभग 200 वर्षों तक, कंपनी भारतीयों पर बेहद हावी रही, लेकिन 1857 की क्रांति ने ईस्ट इंडिया कंपनी की नींव को हिला दिया।

1947 में भारत में ब्रिटिश शासन के अंत के साथ, ईस्ट इंडिया कंपनी का पतन भी शुरू हुआ। भारत छोड़ने के कुछ साल बाद कंपनी की आर्थिक स्थिति बेहद खराब होने लगी। इस बीच, ब्रिटिश सरकार ने भी मदद करने से इनकार कर दिया। ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ नाम पूरी दुनिया में मशहूर था, इसलिए ब्रिटिश सरकार ने इसे पूरी तरह बंद तो नहीं होने दिया।साल 2003 है। जब भारतीय व्यवसायी संजीव मेहता को पता चला कि दुनिया पर राज करने वाली ईस्ट इंडिया कंपनी की आर्थिक स्थिति अब बहुत खराब है, तो उन्होंने उनके कार्यालय जाने का फैसला किया। इस बीच, संजीव इस विचार के साथ ईस्ट इंडिया कंपनी के कार्यालय में गए कि वह उसे खरीद के ही वापस आयेगे। एक तरह से यह उनकी तरफ से लाखों भारतीयों के लिए एक तोहफा व बहुत ही महत्वपूर्ण बात थी । उन्होने कहा “मैं ईस्ट इंडिया कंपनी के कार्यालय में केवल 20 मिनट था,” इस बीच पहले 10 मिनट में ही मुझे अहसास हो गया कि कंपनी की आर्थिक स्थिति काफी ज्यादा खराब है। अब उसे बस बेचने की उम्मीद थी। बातचीत के बीच मैंने टेबल पर पड़े नैपकिन पेपर को उठाया और उस पर एक कीमत लिख दी। इस कीमत को देखकर, ईस्ट इंडिया कंपनी के मालिकों ने 21% शेयर बेचने का फैसला किया। कंपनी की एक बड़ी हिस्सेदारी सिर्फ 20 मिनट में बिक गई ,संजीव ने लगभग 15 मिलियन (1,11 करोड़ रुपये) के निवेश से ईस्ट इंडिया कंपनी को खरीदा। एक साल के भीतर, संजीव ने भी ईस्ट इंडिया कंपनी के शेष 38% से अपने शेयर खरीद लिए और कंपनी को पूरी तरह अपने कब्जे में ले लिया। ईस्ट इंडिया कंपनी को खरीदने के बाद भी संजीव ने कई सालों तक इसे लॉन्च ही नहीं किया। इसके बाद भारतीय व्यवसायी आनंद महिंद्रा ने भी संजीव की ‘द ईस्ट इंडिया कंपनी’ में भारी निवेश किया।ईस्ट इंडिया कंपनी अब विलासिता की वस्तुओं का नहीं, बल्कि चाय, नमक, चीनी, मसाले और रेशम का ही व्यापार करेगी। इसने लंदन में 2 नए स्टोर खोले हैं। अब भारत में भी जल्द ही एक स्टोर खुलने जा रहा है। कपड़े, खाने-पीने का सामान से लेकर फर्नीचर, घरेलू सामान आपको इस स्टोर में आसानी से मिल जाएगा। ईस्ट इंडिया कंपनी को एक बार फिर भारत में एक भारती के कन्ट्रोल में देखना बहुत दिलचस्प होगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here