उत्तर प्रदेश: गाज‍ियाबाद में धारा-144 की गई लागू, जानें इसके पीछे की वजह?

Section 144 implemented in Ghaziabad: उत्‍तर प्रदेश के गाज‍ियाबाद स्‍थ‍ित शालीमार गार्डन थाना क्षेत्र में 23 सितंबर को नाले से गोवंश के जो अवशेष मिले थे. उस समय इसकी जानकारी इलाके के ह‍िंदू नेता पिंकी चौधरी को लगी तो वह अपने समर्थकों के साथ वहां मौके पर पहुंच गया. इतना ही नहीं उसने वहां से ही ह‍िंदू नेता ने फेसबुक लाइव भी क‍िया, जिसमें देवी-देवाताओं को लेकर कुछ आपत्तिजनक शब्दों का भी प्रयोग किया गया

0
224

AIN NEWS 1: उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद पुलिस ने अब हिन्दू रक्षा दल के अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी उर्फ पिंकी तोमर के खिलाफ मे गुंडा एक्ट और हिस्ट्रीशीट खोलने की कार्रवाई की है. इसके खिलाफ ही मंगलवार को गाजियाबाद में डीएम दफ्तर पर प्रदर्शन भी हो रहा है.

कई सारे साधु-संतों ने भी इस प्रदर्शन को अपना पूर्ण समर्थन दिया है. डीसीपी ने इस मामले में साफ तौर पर कह दिया है कि जनपद में धारा-144 लागू की गई है. अगर बिना पुलिस की अनुमति के लोग इकट्ठा होते हैं तो उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.जान ले 23 सितंबर को शालीमार गार्डन थाना क्षेत्र में ही नाले में कुछ गोवंश के अवशेष मिले थे. इस की सूचना पर पिंकी चौधरी अपने समर्थकों सहित वहा पहुंचे थे. यहां पर वे फेसबुक लाइव पर आए और हिन्दुओं के लिए भी उन्होने आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया. शालीमार गार्डन थाना पुलिस ने ही इस मामले में 2 अक्टूबर को पिंकी चौधरी पर ही एफआईआर दर्ज की थी. इसके बाद एक अक्टूबर को राजनगर एक्सटेंशन में पुलिस द्वारा ‘जय माता दी’ स्टीकर लगे वाहन का चालान काटने पर भी हिन्दू रक्षा दल ने हंगामा किया और धरना भी दिया था.यहां पर भी पिंकी चौधरी ने ट्रैफिक पुलिसकर्मी से काफ़ी अभद्रता की, उसका मोबाइल छीनने का प्रयास किया था. इस मामले में भी हेड कांस्टेबल दिनेश कुमार ने थाना नंदग्राम में भूपेंद्र चौधरी उर्फ पिंकी भैया व 10-12 अज्ञात के खिलाफ मे मुकदमा दर्ज कराया. तीन अक्टूबर को साहिबाबाद पुलिस ने फिर पिंकी चौधरी के खिलाफ गुंडा एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया. इसमें उनके ऊपर लगे पुराने चार मुकदमों का हवाला दिया गया है, जो के अलग-अलग थानों में ही दर्ज हैं.इस पूरे मामले में डीसीपी शुभम पटेल ने बताया, पिंकी चौधरी पर पूर्व में कई सारे मुकदमे दर्ज हैं. इस आधार पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई की गई है. 7 अक्टूबर को पुलिस ने पिंकी चौधरी की हिस्ट्रीशीट भी खोल दी. इस कार्रवाई के खिलाफ पिंकी चौधरी ने मंगलवार को गाजियाबाद में ही डीएम दफ्तर घेरने का ऐलान भी किया. पिंकी चौधरी ने सोमवार रात को एक वीडियो बयान जारी कर कहा, ‘मैं थाने की दीवार पर अपराधियों की सूची में अपना नाम बिलकुल नहीं लिखवा सकता. इसलिए आज डीएम कार्यालय पर अपने परिवार सहित इच्छामृत्यु मांगने आ रहा हूं.’

इधर, श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़ा के ही महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि सहित कई सारे साधु-संतों ने भी इस प्रदर्शन को अपना पूर्ण समर्थन दे दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here