क्या है मोरबी के पुल का टूटने का आम आदमी पार्टी से कनेक्शन? क्यों भाजपा विधायक ने आम आदमी पार्टी के 3 ट्वीट्स पर लगाए साजिश के आरोप?

गुजरात के मोरबी शहर में माच्छू नदी पर रविवार को 140 साल पुराने पुल के टूट जाने से हुए दर्दनाक हादसे को लेकर अब किसी बड़ी साजिश का 'शक' जताया जा रहा है। हादसे से पहले सामने आए 3 विवादास्पद ट्वीट्स के आधार पर इसके साजिश होने की आशंका जताई जा रही है।

0
660

मोरबी का पुल टूटने से पहले ‘आप’ के 3 रहस्यमयी ट्वीट

ट्वीट्स में गुजरात में धमाका होने-बीजेपी को झटका लगने की बात

बीजेपी विधायक ने उठाए आप नेताओं की मंशा पर सवाल

AIN NEWS 1: गुजरात के मोरबी शहर में माच्छू नदी पर रविवार को 140 साल पुराने पुल के टूट जाने से हुए दर्दनाक हादसे को लेकर अब किसी बड़ी साजिश का ‘शक’ जताया जा रहा है। हादसे से पहले सामने आए 3 विवादास्पद ट्वीट्स के आधार पर इसके साजिश होने की आशंका जताई जा रही है। इसमें से 2 ट्वीट आम आदमी पार्टी के नेताओं के हैं।

भाजपा नेता ने खड़े किए प्रश्न?

मोरबी में पुल टूटने से पहले अलग-अलग लोगों ने ट्वीटर पर तीन पोस्ट की थीं। इनके लिखने का तरीका काफी संदेहास्पद है। ये तीनों ही ट्वीट पीएम मोदी के गुजरात दौरे पर पहुंचने से पहले 28 अक्टूबर को किए गए थे। एक ट़्वीट में आम आदमी पार्टी के विधायक नरेश बाल्यान ने लिखा- ‘कल भाजपा को गुजरात में तगड़ा झटका लगेगा।’ बीजेपी विधायक राम कदम ने इस ट्वीट पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि गुजरात सरकार “आप’ नेता नरेश बाल्यान के बयान का संज्ञान ले और इसकी जांच करे क्योंकि ये एक गंभीर बयान है, क्या मोरबी पुल हादसे से इसका कोई संबंध है? क्या यह षड्यंत्र है या कोई साजिश है? क्योंकि ब्रिज गिरने से पहले जिस तरह से हिल रहा था और इन महाशय का एक दिन पहले का ट्वीट? ये संयोग है या कोई षड्यंत्र?

 

गुजरात के आप प्रदेश प्रवक्ता ने भी किया ऐसा ट्वीट

ऐसा ही एक विवादास्पद ट्वीट आम आदमी पार्टी के गुजरात के प्रदेश प्रवक्ता मिहिर पटेल ने भी किया था। उन्होंने लिखा- कल गुजरात की सियासत में दोबड़े धमाके होंगे। कल भाजपा के पैर से जमीन खिसकने वाली है।

अन्य यूजर ने भी किया ट्वीट

इसी तरह का तीसरा नफरती ट्वीट किसलय नाम के यूजर ने भी किया है। यह खुद को IndianThinks.com का फाउंडर बताता है। इसने पोस्ट में लिखा है- कल गुजरात में बीजेपी की कब्र खोदी जाएगी !! रंगा बिल्ला तैयार रहें!

हादसे के बाद हुए कई खुलासे

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने रेस्क्यू ऑपरेशन की समीक्षा की है। हादसे के बाद से लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। इस बीच मामले की जांच के लिए सोमवार को घटनास्थल पर स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम भी पहुंच गई है।

190 की मौत, मेंटेनेंस कंपनी के 9 गिरफ्तार

हादसे में 190 से ज्यादा मौतों की खबर है। पुल के टूटने के वक्त उस पर 400 से ज्यादा लोग मौजूद थे।1.25 मीटर चौड़ा और 233 मीटर लंबा ये पुल मोरबी की पहचान है जो 143 साल पुराना है। इस मामले में पुलिस ने पुल का मेंटेनेंस करने वाली कंपनी के खिलाफ FIR दर्ज की है। पुलिस ने 9 लोगों को गिरफ्तार किया है।

नगरपालिका से वेरिफिकेशन कराए बिना खोला पुल

कंपनी ने मेंटेनेंस के बाद पुल खोलने से पहले नगरपालिका के इंजीनियरों से उनका वेरिफिकेशन तक नहीं कराया। यही नहीं फिटनेस स्पेसिफिकेशन सर्टिफिकेट तक भी नगरपालिका से नहीं लिया गया। बिना मंजूरी के 26 अक्टूबर को ओरेवा कंपनी के MD जयसुख पटेल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस पुल को फिर से चालू करने का ऐलान भी कर दिया। अंजता ओरेवा ग्रुप को पुल के मेंटेनेंस की जिम्मेदारी सौंपी गई थी जबकि कंपनी को इस काम का अनुभव नहीं है। ये कंपनी इलेक्ट्रॉनिक घड़ियां, कैलकुलेटर, घरेलू उपकरण और एलईडी बल्ब बनाती है। ओरेवा ने सालभर पहले वारंटी वाले एलईडी बल्ब बेचने की शुरुआत की थी। नगर पालिका के CMO संदीप सिंह झाला ने स्वीकार कि कंपनी के कामकाज की निगरानी ठीक से नहीं हो सकी।

ब्रिज के टिकट का फोटो वायरल

मोरबी हादसे में ब्रिज के टिकट का एक फोटो वायरल हुआ है। इस पर साफ लिखा है कि अगर पुल को कोई टूरिस्ट क्षति पहुंचाएगा तो उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई होगी। वहीं टिकट पर दो कीमतें-12 और 17 रुपए लिखा है। इसमें लिखा है कि टिकट मांगे जाने पर दिखाएं। एग्जिट के बाद दुबारा टिकट मान्य नहीं होगा। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि जब पुल की क्षमता ही 100 लोगों की है तो फिर 500 टिकट कैसे बेचे गए?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here