गाजियाबाद पुलिस ने एक फर्जी IPS अफसर अमित यादव उर्फ जोगेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया, यह शातिर आरोपी अमित कभी ADM, कभी IPS तो कभी इंस्पेक्टर बन लोगों को नौकरी लगवाने का झांसा देता था।

गाजियाबाद पुलिस ने एक फर्जी IPS अफसर अमित यादव उर्फ जोगेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया है। यह शातिर आरोपी अमित कभी ADM, कभी IPS तो कभी इंस्पेक्टर बनकर लोगों को नौकरी लगवाने का झांसा देता था।

0
592

AIN NEWS 1: गाजियाबाद पुलिस ने एक फर्जी IPS अफसर अमित यादव उर्फ जोगेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया है। यह शातिर आरोपी अमित कभी ADM, कभी IPS तो कभी इंस्पेक्टर बनकर लोगों को नौकरी लगवाने का झांसा देता था। पता चला है कि उसने कई लोगों से अब तक करीब कई लाखों की ठगी की है। अमित इससे पहले फ्रॉड के दो मामलों में साल 2010 और साल 2018 में जेल भी जा चुका है।

यह शातिर फिरोजाबाद का है रहने वाला

कविनगर थाने के इंस्पेक्टर अमित कुमार ने बताया, “अमित यादव फिरोजाबाद जिले के धौसाई गांव का ही रहने वाला है। इस आरोपी से कई तो फर्जी दस्तावेज, वर्दी जैसे सामान बरामद हुए हैं। मोबाइल से ऐसी कई तस्वीरें मिली हैं, जिसमें वो खुद को पुलिस अफसर बताकर लोगों को अपने झांसे में लेता था।

 

यह किसी को नौकरी दिलाने तो किसी का कोई भी काम कराने का झांसा देकर वो लोगों से यह पैसा ठगता था। आरोपी ने गाजियाबाद में क्रॉसिंग रिपब्लिक एरिया के पते पर अपना एक फर्जी आधार कार्ड भी बनवा रखा है।

जाने अमित ने कब-कब किए फ्रॉड

साल 2006 में अमित ने खुद को पुलिस कॉन्स्टेबल बताकर अपनी शादी की। सिपाही नहीं होने का पता चलने पर 2010 में उसकी शादी टूट गई और मैनपुरी पुलिस ने उसे जेल भी भेज दिया।

साल 2013 में अमित ने महिला सिपाही से दूसरी शादी भी कर ली और खुद को पिता की मृत्यु के बाद मे आश्रित कोटे से सब इंस्पेक्टर भी बताया। लेकीन जांच में पता चला कि उसके पिता की तो मृत्यु ही नहीं हुई है।

VIDEO देख हंस-हंसकर हो जाएंगे लोटपोट, दुल्हन की जबरन विदाई

2015 में अमित उर्फ जोगेंद्र ने एक महिला सिपाही को बताया कि अब उसका चयन ADM पद पर हो गया है और उसे मुरादाबाद में तैनाती मिली है।

साल 2016 में अमित उर्फ जोगेंद्र ने IPS में चयन होने और 2017 में ट्रेनिंग पर हैदराबाद जाने की भी खुद ही जानकारी दी।

26 अक्टूबर 2018 को अमित ने IPS की पॉसिंग आउट परेड में शामिल होने का एक नाटक भी किया।

29 अक्टूबर 2018 को खुद को IPS बताकर अमित ने इटावा जिले में अपना एक स्वागत समारोह करवाए। और तो और इसमें कई इंस्पेक्टर भी शामिल हुए।

1 नवंबर 2018 को इटावा पुलिस ने एक बार वाहन चेकिंग में अमित को रोका। उसने वहां खुद को IPS बताया। पुलिस को उस पर शक हुआ। सख्ती से पूछताछ हुई तो उसका सारा मामला खुल गया। वहां से इसको जेल भी जाना पड़ा।

अमित उर्फ जोगेंद्र ने इस तस्वीर को एडिट करके खुद को IPS में चयनित होना बताया था। लाल घेरे में आरोपी है।

12वीं पास अमित को फोटो एडिट की है बहुत अच्छी जानकारी

अमित यादव 12वीं पास है। वह फोटो एडिट करने वाले तमाम सॉफ्टवेयर के बारे में बहुत अच्छी जानकारी रखता है। कई एप के जरिए वो फोटो के चेहरे भी बदल देता है। कुछ ऐसा ही फ्रॉड करके अमित ने सबको IPS बनने का फोटो भी दिखाया था। एक तस्वीर में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह चयनित हुए IPS ऑफिसर के साथ फोटो सेशन करा रहे हैं। इस तस्वीर में भी अमित ने एडिट करके अपना चेहरा लगा दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here