चलती ट्रेन में गैंगरेप-मर्डर की कहानी:भाई बोला ,दरिंदगी के बाद गला दबाया; मां को साड़ी गिफ्ट करना चाहती थी मेरी बहन

बरेली-अलीगढ़ एक्सप्रेस में एक 23 साल की लड़की की गैंगरेप के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। गैंगरेप की इस घटना में GRP का एक सिपाही भी शामिल था...

0
443

AIN NEWS 1: बरेली-अलीगढ़ एक्सप्रेस में एक 23 साल की लड़की की गैंगरेप के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। गैंगरेप की इस घटना में GRP का एक सिपाही भी शामिल था ऐसा बताया गया। सिपाही समेत मर्डर और गैंगरेप के आरोप में 4 को पुलिस जेल भेज चुकी है।

सूत्रों से इस घटना की तह तक जाने के लिए पीड़िता के भाई से बात की गई । इस दौरान भाई ने कई अहम खुलासे किए। इसके अलावा हम आपको बताएंगे कि आखिर 29 जून की रात को ये वारदात कैसे और किस प्रकार हुई थी। इसके बाद आपको यह भी बताएंगे कि करीब 4 महीने बाद पुलिस इस ब्लाइंड गैंगरेप मर्डर का कैसे खुलासा कर सकी।

आइए सबसे पहले आपको बताते हैं कि ट्रेन में गैंगरेप के बाद मर्डर की गई लड़की के बारे में…

वह लडकी 3 साल से बरेली में जॉब करती थी, इसी ट्रेन से घर आती थी
लड़की बरेली की एक मार्केटिंग कंपनी में काम करती थी।
लड़की अलीगढ़ के गांधी पार्क थाना क्षेत्र के एक मोहल्ले की ही रहने वाली थी। लड़की के भाई के कहे अनुसार , “हम छह भाई-बहनों में वो चौथे नंबर पर थी। शुरू से पढ़ने में तेज थी और अपने दम पर जीवन में वह कुछ करना चाहती थी। बीकॉम करने के बाद उसने बरेली की एक मार्केटिंग कंपनी काम करती थी।”

उन्होंने बताया, “वो बरेली में ही रूम लेकर रहती थी। कई बार वो 15 दिन में घर आती थी और कई बार तो 2-2 महीने नहीं आती थी। वह हमेशा घर बरेली-अलीगढ़ पैसेंजर ट्रेन से ही आती जाती थी। ये ट्रेन बरेली से सुबह करीब साढ़े चार बजे चलती और सुबह साढ़े दस बजे अलीगढ़ पहुंचा देती है। उस दिन भी मेरी छोटी बहन इसी ट्रेन से घर आ रही थी।”

4 प्वांइट्स में जानें, वारदात की पूरी कहानी

1- महिलाओं ने दिव्यांग कोच का गेट खोला तो सामने पड़ी थी युवती की बॉडी

SP जीआरपी अपर्णा गुप्ता ने बताया, “यह 29 जून की बात है। सुबह के करीब 7 बजे थे। बरेली-अलीगढ़ पैसेंजर ट्रेन जिसे उस वक्त बरेली-अलीगढ़ एक्सप्रेस स्पेशल के नाम से चलाया जा रहा था, वो संभल जिले के चंदौसी रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी। तभी कुछ महिलाएं ट्रेन के दिव्यांग वाले कोच में सवार होने के लिए चढ़ीं। उन्होंने जैसे ही दिव्यांग कोच का गेट खोला तो उन्हें अंदर एक लड़की बेसुध हालत में ही पड़ी दिखाई दी। लड़की के बेहोश होने की आशंका में उन्होंने रेलवे स्टाफ को इसकी जानकारी दी। मेडिकल टीम ने मौके पर पहुंचकर देखा तो पता चला कि वह लड़की बेहोश नहीं है, बल्कि उसकी मौत हो चुकी है।”

2- अस्त-व्यस्त कपड़ों से लगा रेप हुआ है

SP जीआरपी बताती हैं, “लड़की की बॉडी मिलने की सूचना पर GRP चंदौसी की टीम मौके पर तुरंत पहुंची। टीम ने देखा कि लड़की के कपड़े कुछ अस्त-व्यस्त थे। तुरंत लड़की के शव की शिनाख्त कराने की कवायद शुरू हुई और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भी भेजा गया। लड़की के पास मिले पेपर्स के आधार पर लड़की की शिनाख्त हुई। वो अलीगढ़ की ही रहने वाली थी और बरेली में जॉब करती थी। घटना के वक्त वो इस ट्रेन से अपने घर अलीगढ़ लौट रही थी।”

3- स्लाइड रिपोर्ट ने की रेप की पुष्टि

SP अपर्णा बताती हैं, “हमने रेप की आशंका में लड़की वैजाइनल स्लाइड बनवाई थी। इसे जांच के लिए भेजा गया। स्लाइड रिपोर्ट में सीमन मिला है। इससे साबित होता है कि लड़की के साथ पहले रेप किया गया, फिर उसे गला घोंटकर मारा गया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पहले ही लड़की की गला घोंटकर हत्या करने की पुष्टि कर चुकी है।”

4- सही सलामत चढ़ी थी ट्रेन पर

23 साल की लड़की के साथ गैंगरेप और मर्डर की ये वारदात चलती ट्रेन में ही हुई। घटना के तुरंत बाद GRP इस थ्योरी पर काम कर रही थी कि कहीं बाहर वारदात करने के बाद शव को दिव्यांग कोच में तो नहीं डाला गया है। लेकिन, वारदात के बाद जब बरेली रेलवे स्टेशन के 29 जून के CCTV फुटेज खंगाले गए तो लड़की उन फुटेज में सुबह करीब साढ़े चार बजे सही सलामत ट्रेन में चढ़ती नजर आ रही है।

इसके करीब ढाई घंटे बाद यानी सुबह 7 बजे जब यह ट्रेन चंदौसी रेलवे स्टेशन पहुंचती है, तो दिव्यांग कोच में उसका शव मिलता है। यानी इस वारदात को हत्यारों ने बरेली और चंदौसी के बीच ही कहीं अंजाम दिया और ट्रेन से उतर गए। ये पूरी तरह साफ हो चुका है कि लड़की के साथ गैंगरेप और मर्डर की इस वारदात को दौड़ती ट्रेन में ही अंजाम दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here