जाने आजमगढ़ में बनने वाले एयरपोर्ट का विरोध क्यों कर रहे हैं वहा के किसान, क्या है उनकी डिमांड?

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में एयरपोर्ट को लेकर बवाल बढ़ता ही जा रहा है. आजमगढ़ के मंदुरी में एयरपोर्ट के एक्सपेंशन का काफ़ी विरोध हो रहा है....

0
370

AIN NEWS 1: बता दें उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में एयरपोर्ट को लेकर बवाल बढ़ता ही जा रहा है. आजमगढ़ के मंदुरी में एयरपोर्ट के एक्सपेंशन का काफ़ी विरोध हो रहा है. एक्सपेंशन के लिए गांव वालों की जमीनों का अधिग्रहण किया जाएगा और यही वजह है कि इसका अभी से काफ़ी विरोध हो रहा है.

गांव वालों का कहना है कि उन्हें यहां एयरपोर्ट की जरूरत नहीं है और यह एयरपोर्ट किसी दूसरी जगह शिफ्ट कर लिया जाए. दावा किया जा रहा है कि इसके लिए कुल 8 गांव की 773 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है. इससे करीब 25 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित होंगे.

कहां बन रहा है एयरपोर्ट? आजमगढ़ के जिला मुख्यालय से करीब 12 किलोमीटर दूर मंदुरी में ये एयरपोर्ट बन रहा है. ये एयरपोर्ट करीब 104 एकड़ जमीन पर बना हुआ है.

योगी सरकार इसे इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने की तैयारी में है. ये प्रदेश का 5वां इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा.

2005 में यहां केवल हवाई पट्टी हुआ करती थी, जिस पर विमान उतरा करते थे. नवंबर 2018 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हवाई पट्टी का विस्तार करते हुए उसे एयरपोर्ट बनाने की घोषणा की.

अप्रैल 2019 में एयरपोर्ट बनाने के लिए बजट भी जारी हुआ और जल्द ही यहां एयरपोर्ट बन गया. बाद में इसे इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने के लिए जिला प्रशासन को जमीन के सर्वे का काम भी सौंपा गया.

जाने फिर विरोध क्यों?

इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने के लिए इसका दायरा बढ़ाना जरूरी है. इसके लिए 8 गांव की करीब 773 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है.

किसान नेता आज मंदुरी भी वहा पहुंचे हैं. दावा किया जा रहा है कि अगर जमीन का अधिग्रहण होता है तो उसका असर करीब 25 हजार लोगों पर पड़ेगा.

जमीन का अधिग्रहण करने के लिए वहां के 80 फीसदी किसानों की सहमति जरूरी है. बताया जा रहा है कि जिला प्रशासन ने यहां जमीन का सर्वे भी कर लिया है और इसकी रिपोर्ट भी भेज दी है. इस रिपोर्ट में 80 फीसदी किसानों की सहमति होने की बात भी कही गई है.

लेकिन किसानों का कहना है कि वो अपनी जमीन बिलकुल नहीं देना चाहते हैं. यही वजह है कि इसका विरोध हो रहा है. सैकड़ों-हजारों की संख्या में गांव वाले और किसान विरोध कर रहे हैं. इनमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here