देश के स्कूलों में अब पारंपरिक तरीके से विद्यार्थियों को शिक्षा दी जाएगी।सरकार की तरफ से नए बोर्ड की कमान रामदेव को सौंपी गई।

0
267

Ainnews1.com:–केंद्र सरकार ने आजादी के 75 साल पूरे किए जाने पर भारतीय शिक्षा बोर्ड का गठन करके उसके संचालन का जिम्मा बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट को सौंप दिया है. बाबा रामदेव को यह जिम्मेदारी मिलने पर उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी का आभार जताया है. स्वामी रामदेव ने कहा कि जब पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. ऐसे में केंद्र की मोदी सरकार ने आज भारतीय शिक्षा बोर्ड का गठन करके एक और ऐतिहासिक कार्य किया.शिक्षा का ‘स्वदेशीकरण’ करने के लिए सीबीएसई की तर्ज पर एक राष्ट्रीय स्कूल बोर्ड स्थापित करने का प्रस्ताव सबसे पहले स्वामी रामदेव ने ही सामने रखा था. साल 2015 में उन्होंने अपने हरिद्वार स्थित वैदिक शिक्षा अनुसंधान संस्थान के जरिए एक नया स्कूली शिक्षा बोर्ड शुरू करने का विचार सामने रखा।इस स्कूली शिक्षा बोर्ड में ‘महर्षि दयानंद की पुरातन शिक्षा’ और आधुनिक शिक्षा का मिश्रण करके भारतीय शिक्षा बोर्ड की स्थापना की जानी थी. हालांकि शिक्षा मंत्रालय ने साल 2016 में यह प्रस्ताव रद्द कर दिया था.इसके बाद बाबा रामदेव ने फिर प्रयास किया और मोदी सरकार के मंत्रियों से मिलकर भारतीय शिक्षा बोर्ड शुरू करने के फायदे साझा किए. जिसके बाद साल 2019 के आम चुनाव शुरू होने के कुछ समय पहले भारतीय शिक्षा बोर्ड के गठन की प्रक्रिया को पूरा कर लिया था.जिससे साल 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए आदर्श आचार संहिता शुरू होने से कुछ घंटे पहले मंजूरी मिल जाए.वहीं शिक्षा मंत्रालय के तहत आने वाले स्वायत्त संगठन उज्जैन स्थित महर्षि संदीपनी राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान ने इस प्रक्रिया पर आपत्ति जताई. MSRVPP अपना खुद का भारतीय शिक्षा बोर्ड शुरू करना चाहता था. लेकिन सरकार ने उसकी आपत्तियों को रद्द कर दिया. BSB देश का पहला राष्ट्रीय स्कूल बोर्ड माना जाएगा और उसे सिलेबस तैयार करने, स्कूलों को संबद्ध करने, परीक्षा आयोजित करने और प्रमाण पत्र जारी करके भारतीय पारंपरिक ज्ञान का मानकीकरण करने का अधिकार होगा. वह आधुनिक शिक्षा के साथ इसे मिश्रित करके भारतीय परंपरा के अनुसार पढ़ाई करवाएगा. इस उपलब्धि पर स्वामी रामदेव ने कहा कि 1835 में मैकाले जो पाप करके गया था उसको साफ करने का कार्य पतंजलि भारतीय शिक्षा बोर्ड के माध्यम से करने जा रहे है. अब भारत के बच्चों का मानस भारतीयता के अनुसार तैयार किया जाएगा. उन्होंने भारतीय शिक्षा बोर्ड के गठन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का आभार व्यक्त किया है. स्वामी रामदेव ने कहा कि भारत में हम वो युवा नेतृत्व बनाएंगे जो भारत ही नहीं पूरे विश्व में नेतृत्व करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here