7 महीने से AIIMS में भर्ती बेहोश महिला की चामात्कारिक सामान्य डिलीवरी, मार्च में एक्सीडेंट के बाद स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया

UP के बुलंदशहर की रहने वाली 23 साल की महिला दिल्ली के AIIMS में 7 महीने से बेहोशी की हालत में भर्ती है।

0
350

7 महीने से बेहोश महिला ने बच्ची को जन्म दिया

मार्च में सड़क दुर्घटना में सिर में चोट आने से घायल

हेलमेट ना पहनना बना गंभीर हालत की वजह

AIN NEWS 1: UP के बुलंदशहर की रहने वाली 23 साल की महिला दिल्ली के AIIMS में 7 महीने से बेहोशी की हालत में भर्ती है। जब इसको अस्पताल लाया गया था तो ये 40 दिन की गर्भवती थी। उस वक्त डॉक्टरों ने जांच के बाद बच्चे को स्वस्थ बताया था। पति ने भी डॉक्टरों पर यकीन करके बच्चे के जन्म का इंतज़ार करने के लिए कहा। वाकई ये कहानी अब यकीन के साथ साथ चमत्कार की भी मिसाल बन गई है। जिंदगी और मौत से संघर्ष रही इस महिला ने पिछले हफ्ते दिल्ली के एम्स में एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया है। रोड एक्सीडेंट के बाद महिला की हालत बेहद सीरियस थी। उसके सिर पर काफी चोटें आई थीं। उसे कई सर्जरी भी करवानी पड़ीं। डॉक्टर ने बताया कि अगर महिला ने हेलमेट पहना होता था तो उसकी हालत इतनी गंभीर नहीं होती।

31 मार्च 2022 को हुआ था महिला का एक्सीडेंट

डॉक्टरों के मुताबिक ये महिला 31 मार्च को अपने पति के साथ बिना हेलमेट नहीं पहने बाइक पर सवार होकर जा रही थी। तभी अचानक से उसका एक्सीडेंट हो गया। हेलमेट ना होने की वजह से उसके सिर पर कई गंभीर चोटें आईं और तबसे दिल्ली के एम्स में उसका इलाज चल रहा है। एक्सीडेंट के बाद से ही वह बेहोशी की हालत में है। बच्चे को जन्म देने के बाद उसने आंखें तो खोलीं लेकिन कोई जवाब नहीं दिया।

हेलमेट बचा सकता है जान

डॉक्टर्स के मुताबिक टू-व्हीलर्स पर सफर के दौरान हेलमेट जरूर पहनना चाहिए। अगर इस केस में महिला ने हेलमेट पहना होता तो हालत कुछ और हो सकती थी। महिला का पति पेशे से प्राइवेट ड्राइवर है। पत्नी के एक्सीडेंट के बाद से वो अपनी नौकरी छोड़कर लगातार उसकी सेवा कर रहा है।

40 दिनों की गर्भवती थी महिला

डॉक्टर्स के अनुसार महिला को जब घायल हालत में हॉस्पिटल लाया गया था तो वो 40 दिन की गर्भवती थी। प्रसूती रोग डिपार्टमेंट ने महिला की संपूर्ण जांच की थी। जांच में पता चला कि बच्चा पूरी तरह स्वस्थ है। इसके बाद महिला की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने बच्चे के जन्म का फैसला पूर्ण रुप से मरीज के परिवार वालों पर छोड़ दिया था। महिला के पति ने इस हालत में अदालत का रुख करने की जगह बच्ची के जन्म के लिए हां की थी। फिलहाल मां अपनी बच्ची को दूध नहीं पिला सकती है इसलिए उसे बोतल से दूध पिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here