कोरियर कंपनी से बोल रहा हूं, उसके बाद 5 दिन तक डिजिटल अरेस्ट, नोएडा की एक बुजुर्ग महिला से ऐसे की गई 1.3 करोड़ की ठगी?

0
299

AIN NEWS 1: आज कल देश भर में साइबर ठगी ऐसा अनोखा तारिका ठगो द्वारा अपनाया जा रहा है जिसे सुनकर लोग दंग हो रहे हैं ऐसा ही एक नया मामला सामने आया है, जहां पर एक 73 साल की बुजुर्ग महिला को ही साइबर ठगी का शिकार बना लिया गया है. इसमें इस महिला के साथ मे कुल 1.3 करोड़ रुपये की ठगी हुई है, यहां पर इस महिला ने अपनी पूरी जिंदगी की ही कमाई गंवा दी. इतना नहीं इस केस में इस महिला को पूरे 5 दिन तक डिजिटल अरेस्ट भी रखा और किसी से उसे बातचीत भी नहीं करनी दी गई. आइए आज हम इसके बारे में डिटेल्स में जानते हैं. साइबर फ्रॉड के ऐसे आए दिन ही नए-नए केस सामने आ रहे हैं, जिसमें कई सारे लोगों की जिंदगी भर की मेहनत की कमाई को बड़ी चालाकी के साथ लूट लिया जाता है. इतना ही नहीं, कई सारे केस में लोगों को उनके घर पर ही डिजिटली अरेस्ट कर लेते हैं, जिसके बाद वे मानसिक रूप के काफी ज्यादा परेशान हो जाते हैं. साथ ही उन्हें इस क़दर डराया और धमकाया भी जाता है. आइए इस नोएडा में होने वाले इस केस के बारे में जानते हैं.

साईबर ठगो ने नोएडा की महिला से लूटे कुल 1.3 करोड़ रुपये 

यहां हम आपको बता दें दिल्ली-NCR के शहर नोएडा से साइबर ठगी का एक ऐसा नया मामला सामने आया है. यहां 73 साल की एक बुजुर्ग महिला को ठगो ने अपना निशाना बनाया है और उनके बैंक अकाउंट से उन्होने कुल 1.30 करोड़ रुपये उड़ा लिए हैं. दरअसल, इन साइबर ठगों ने 13 जून को नोएडा की एक महिला को पहले काल किया और इस कॉल करने वाले ने खुद को एक कुरियर कंपनी से बताया.

उसने बताया पार्सल में मिला संदिग्ध सामान

खुद को कुरियर कंपनी का कर्मचारी बताने वाले इस शख्स ने बताया कि इस महिला के नाम से एक पार्सल मिला है. इस पार्सल में से कुछ संदिग्ध आइटम मिले हैं. इसके बाद महिला को इसके लिए फर्जी केस लगाकर डराया और धमकाया. इसके बाद इस महिला को जांच के लिए मुंबई आने को भी कहा.

इस दौरान महिला को 5 दिन तक रखा डिजिटल अरेस्ट 

साइबर ठगों ने इस महिला को बताया कि इस मामले की जांच नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी), मुंबई ही करेगी. इसके लिए महिला को अब मुंबई आना होगा. इसके बाद महिला काफ़ी ज्यादा घबरा गई. इसके बाद महिला को ठगो ने 5 दिनों तक डिजिटल अरेस्ट रखा और घर से कही भी बाहर ना जाने की सलाह दी. इस पूरे केस के दौरान इस महिला ने 1.30 करोड़ रुपये ट्रांसफर भी कर दिए. इस घटना के बाद भी उन्होंने अपने पति को इसके बारे में कुछ भी नहीं बताया.

बाद मे दर्ज कराई पुलिस कंप्लेंट, बताई पूरी कहानी  

इसके बाद विक्टिम महिला पुलिस के पास अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए पहुंची. उन्होंने बताया कि उन्हें पहले एक अनजान नंबर से ही कॉल आया. इसके बाद इस पूरे मामले की उन्हे जानकारी दी और आरोपी ने इस महिला से कहा कि वे इस केस के बारे में किसी दूसरे को बिलकुल ना बताएं. पांच दिन के बाद इस महिला को बताया गया कि कल उन्हें उनका क्लियरेंस सर्टिफिकेट मिल जाएगा. लेकीन जब उसे कोई भी सर्टिफिकेट नहीं मिला, तब उसे पता चला कि वह तो इस साइबर फ्रॉड का शिकार हो चुकी है. पुलिस ने अब कंप्लेंट दर्ज कर ली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here