उत्तर प्रदेश: ग्रेटर नोएडा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, फ्लिपकार्ट के खाली लिफाफे ख़रीद कर उनमें गांजा-चरस बेचने वाले गैंग का पर्दाफाश!

उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। दरअसल ऑनलाइन सामान डिलीवरी करने वाली फ्लिपकार्ट के ही लिफाफे में गांजा और चरस रखकर उसकी सातिर तरीके से तस्करी करने वाले एक गैंग का पर्दाफाश किया है

0
539

AIN NEWS 1: उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। दरअसल ऑनलाइन सामान डिलीवरी करने वाली फ्लिपकार्ट के ही लिफाफे में गांजा और चरस रखकर उसकी सातिर तरीके से तस्करी करने वाले एक गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने इस गैंग के चार लोगों को गिरफ्तार भी किया है। जिसमें एक शातिर लड़की भी शामिल है। यह आरोपी ग्रेटर नोएडा में ही स्थित कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चों को गांजा और चरस की सप्लाई किया करते है। पुलिस ने अभी इनके कब्जे से 20 किलो 300 ग्राम गांजा और 400 ग्राम चरस भी बरामद की है। इसके अलावा इस पूरी घटना में शामिल एक वर्ना कार, स्प्लेंडर मोटरसाइकिल और इलेक्ट्रिक तराजू को भी बरामद किया गया है। पुलिस ने इसके अलावा 148 फ्लिपकार्ट कंपनी के लिफाफे, 38 पैकिंग के लिफाफा, तीन पॉलिथीन के पैकेट और चार मोबाइल फोन भी इन सभी से बरामद किए हैं। इस गैंग का पूरी तरह से पर्दाफाश बीटा-2 थाना पुलिस ने किया।

अभी की जा रही है गिरफ्तार आरोपियों की पहचान

ग्रेटर नोएडा के एडिशनल डीसीपी अशोक कुमार ने इस पूरे मामले में बताया कि पुलिस ने चिंटु ठाकुर निवासी बुलंदशहर, बिट्टू उर्फ कालू निवासी बुलंदशहर, जयप्रकाश निवासी बलिया और इनके साथ एक महिला आरोपी वर्षा निवासी ग्रेटर नोएडा ओमिक्रोन-3 को भी गिरफ्तार किया है। इन आरोपियों के खिलाफ पहले भी कई मुकदमे दर्ज है। सभी आरोपी काफी ज्यादा शातिर किस्म के हैं।

यहां हम आपको बता दें दोनों सगे भाइयों ने शुरू किया धंधा

एडिशनल डीसीपी ने इस संबंध में बताया कि रिंकू उर्फ सेठ भारी मात्रा में शिलांग से गांजा और चरस लेकर आता रहता है। उसके बाद चिंटू और पिंटू के माध्यम से ही वो डिस्ट्रीब्यूशन करवाता है। चिंटू और बिंटू दोनों ही सगे भाई हैं। ये दोनों सगे भाई वर्षा और जयप्रकाश के माध्यम से गांजा ग्राहकों तक पहुंचाते हैं। ग्राहक व्हाट्सएप के माध्यम से चिंटू और पिंटू से सीधे संपर्क करते हैं। कॉन्फ्रेंस कॉलिंग के जरिए दोनों भाई वर्षा और जयप्रकाश को ग्राहक की लोकेशन बताते हैं। उसके बाद उस लोकेशन पर वो माल सप्लाई किया जाता है।

इन लोगो की रोजाना 4-5 हजार रुपए की कमाई

इस दौरान पता चला है कि पहले इस काम के लिए वर्षा और जयप्रकाश को सैलरी मिला करती थी, लेकिन अब ₹100 प्रति पुड़िया के हिसाब से ही इन्हे पैसे मिलते हैं। एक दिन में वर्षा और जयप्रकाश क़रीब 40-50 पुड़िया की सप्लाई करते हैं। जिसमें 10 ग्राम से लेकर 50 ग्राम तक का वजन होता है। इसके लिए वर्षा और जयप्रकाश अपने साथ ही एक इलेक्ट्रिक तराजू भी रखते हैं। ग्राहक के कहने पर तुरंत ही गांजा तोल कर दे देते हैं।

इन सभी ने नोएडा से खरीदे फ्लिपकार्ट के लिफाफे

चिंटू और पिंटू को यह भी डर था कि वह पुलिस की गिरफ्त में ना आ जाए। इसके लिए ही उन्होंने नोएडा के सेक्टर-9 में स्थित एक दुकान से ही ये सभी फ्लिपकार्ट के लिफाफे खरीदे। उसके बाद गांजे और चरस को इन फ्लिपकार्ट के लिफाफे में रखकर एनसीआर में ही सप्लाई करने लगे। यह लोग सेक्टरों, कंपनी और यूनिवर्सिटी में भी व्हाट्सएप के माध्यम से सप्लाई करते हैं। इनका पूरा गैंग एनसीआर के काफी इलाकों में इस गांजे के सप्लाई करता है। जिसकी पेमेंट ऑनलाइन बिंटू के बैंक खाते में ही जाती है। पुलिस ने ग्रेटर नोएडा में स्थित नवादा गोल चक्कर के पास से ही इन चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here