आख़िर कौन है धीरज साहू , जिनके ठिकानों से छापे में मिले लगभग 300 करोड़ रुपये?

0
971

AIN NEWS 1: जैसा कि आप जानते है इंनकम टैक्स विभाग के अधिकारियों ने अभी हाल ही में ओडिशा और झारखंड में कई जगहों पर अपनी छापेमारी कर कांग्रेस के एक बड़े नेता के यहां से क़रीब 300 करोड़ रुपये से अधिक की नकदी बरामद कि है. बता दें शुक्रवार को इनकम टैक्स विभाग ने झारखंड से कांग्रेस के राज्य सभा सांसद धीरज साहू से जुड़े हुए ओडिशा और झारखंड में भी कई सारे ठिकानों में अपनी छापेमारी की थी.यहां हम आपको बता दें समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार ही ये कैश ओडिशा और झारखंड में उनके ही घर से बरामद हुआ है.

इस पूरे मामले में अधिकारियों के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई ने भी कहा है कि विभाग ने इस दौरान लगातार तीन दिन छापेमारी की. इस दौरान लगभग 300 करोड़ रुपये नकद बरामद किए गए हैं जिनका “कोई भी हिसाब ही नहीं है.”विभाग ने बुधवार को ही ओडिशा के बौध डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड और उससे जुड़ी हुई कंपनियों पर अपनी छापेमारी शुरू की थी. इनमें भी बलदेव साहू इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड कंपनी शामिल है.पीटीआई के अनुसार इन नोटों की गिनती के लिए क़रीब तीन दर्जन काउंटिंग मशीनों को भी यहां काम पर लगाया गया है.इन मशीनों की संख्या काफ़ी कम होने से इन नोटों की गिनती का काम अभी धीमी गति से हो रहा है.

जान ले अब तक कहां-कहां हुई छापेमारी

यहां हम आपको बता दें आयकर विभाग के अधिकारियों ने ओडिशा के बोलांगीर ज़िले के ही सुदापाड़ा इलाक़े में एक ठिकाने से ही 156 बैग बरामद किए गए.

उन्होंने यह भी बताया कि अब तक केवल 6-7 बैग ही गिने गए थे कि इतने पैसे बरामद हो गए.

इस पूरे प्रकरण में क़रीब 200 करोड़ की नकदी केवल बोलांगीर से ही बरामद हुई है. बाकी पैसा ओडिशा के संबलपुर और सुंदरगढ़, झारखंड के बोकारो और रांची और कोलकाता से भी मिला है.

इस पूरे केस में आईटी विभाग ने ओडिशा के संबलपुर, बोलांगीर, टिटिलागढ़, बौध, सुंदरगढ़, राउरकेला और भुवनेश्वर औक झारखंड के रांची और बोकारो में भी छापेमारी की है.इस कंपनी की ओर से इस केस में अभी तक तो कोई भी बयान नहीं आया है.इस पूरे प्रकरण में बीजेपी की ओडिशा यूनिट ने इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से ही कराए जाने की है. बीजेपी ने ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजेडी से भी इस पूरे मामले में स्पष्टीकरण भी मांगा है.

यहां हम आपको बता दें कौन हैं धीरज प्रसाद साहू?

राज्य सभा की ही वेबसाइट के अनुसार 23 नवंबर 1955 को रांची में ही जन्मे धीरज प्रसाद साहू के पिता का नाम राय साहब बलदेव साहू है और इनकी मां का नाम सुशीला देवी है.वो तीन बार राज्यसभा सांसद भी रहे हैं.वो 2009 में ही राज्य सभा सांसद बने थे. जुलाई 2010 में वो एक बार फिर से झारखंड से राज्य सभा के लिए चुन लिए गए. तीसरी बार वो मई 2018 में ही राज्य सभा के लिए चुने गए.धीरज प्रसाद की एक अपनी वेबसाइट के अनुसार वो एक व्यापारी परिवार से ही ताल्लुक रखते हैं.उनके पिता राय साहब बलदेव साहू अविभाजित बिहार के ही छोटानागपुर से आते थे और उन्होंने स्वतंत्रता की लड़ाई में भी हिस्सा लिया था.देश के आज़ाद होने के वक्त से ही उनका परिवार कांग्रेस के साथ पूरी तरह से जुड़ा रहा है.उन्होंने खुद 1977 में ही राजनीति में कदम रखा. वो लोहरदगा जिला यूथ कांग्रेस में भी शामिल रहे.उनके भाई शिव प्रसाद साहू भी रांची से दो बार कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा सांसद रहे थे.उन्होंने रांची के मारवाड़ी कॉलेज से ही बीए तक की पढ़ाई की है और झारखंड के लोहरदगा में ही रहते हैं.वो 2018 में राज्य सभा के लिए चुने जाने की प्रक्रिया में धीरज साहू ने जो अपना हलफ़नामा दायर किया था.इसमें उन्होंने अपनी खुद की संपत्ति 34.83 करोड़ बताई थी. उन्होंने 2.04 करोड़ चल संपत्ति होने का दावा उस समय भी किया था.इस हलफ़नामे के अनुसार उनके ख़िलाफ़ कोई भी आपराधिक मामला नहीं था.इस हलफ़नामे के अनुसार उनके पास एक रेंज रोवर, एक फॉर्च्यूनर, एक बीएमडब्ल्यू और एक पाजेरो कार भी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here