कुत्ते के काटने से मासूम बच्चे ने तड़प-तड़पकर तोड़ दिया दम, परिजनो का रो रोकर हुआ बुरा हाल।

0
232

दिन पर दिन कुत्तो का आंतक बढ़ता ही जा रहा है आये दिन कुत्ते मासुम बच्चो को अपना शिकार बनाते है. एक आवारा कुत्तों के द्वारा काटे जाने से मासूम बच्चों की मौत का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है. अभी हाल दिनों में खबर आई थी कि कुत्ते के काटने से 14 साल के बच्चे की मौत हो गई थी और अब ठीक ऐसा ही एक मामला यूपी के मेरठ से सामने आया है, जहां 12 साल के दुष्यत नाम के एक मासूम बच्चे की रेबीज इंफेक्शन की वजह से मौत हो गई बता दे कि बच्चे को दो महीने पहले एक आवारा कुत्ते ने काटा था। पूरे शरीर में फैल रेबीज इन्फेक्शन मिली जानकारी के मुताबिक, मेरठ के सूर्यपुरम कॉलोनी में 28 अगस्त को बच्चे को आवारा कुत्ते ने दाएं पैर में काट लिया था, जिसके बाद उसके परिजन बच्चो को डॉक्टर के पास लेकर गए और डॉक्टर ने उसे टिटनेस का इंजेक्शन लगाकर घर भेज दिया। कुछ दिनों के बाद रेबीज इन्फेक्शन पूरे शरीर में फैल गया और बच्चे को तेज बुखार आ गया। बच्चे के परिजन उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे तभी  डॉक्टरों ने जवाब दे दिया। इसके बाद परिजन दुष्यंत को AIIMS दिल्ली, सफदरजंग दिल्ली और गुरु तेगबहादुर अस्पताल के साथ ही कई बड़े अस्पतालों में दिखाया, लेकिन डॉक्टरों ने दुष्यंत को लाइलाज घोषित कर दिया। फिर उसके बाद मासूम बच्चे नें  6 नवंबर को तोड़ दिया दम इसके बाद परिवार दुष्यंत को वापस घर ले आए और देसी इलाज शुरू किया। लेकिन दुष्यंत अजीबोगरीब हरकतें करने लगा और आखिरकार 6 नवंबर को बच्चे ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया।सोमवार को परिजनों ने गढ़मुक्तेश्वर में उसका अंतिम संस्कार करवाया।

बच्चे की मौत पर परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। वहीं, कुत्ता काटने की घटना से लोगों में काफी गुस्सा है। उनका कहना है कि आवारा कुत्तों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है। आए दिन ऐसी घटनाएं हो रही हैं लेकिन कोई भी सुनने वाला नहीं है। प्रशासन किसी भी तरह का कोई काम नही कर रही है आये दिन बच्चे कुत्तो का शिकार हो रहे है। वहीं, इस दुखद घटना के बाद परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है. ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि आखिर इस बच्चे की मौत का जिम्मेदार कौन है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here