(देखें वीडियो)! बहन की लाश को दुपट्टे से बांधकर बाइक पर ले गया भाई, डिप्टी CM ब्रजेश पाठक ने लिया बड़ा एक्सन।

0
261

आपको बता दे कि यूपी के औरैया जिले से एक वीडियो वायरल हुआ था जिस वीडियो को देखकर लोग रोने में मजबूर हो गए , जिसमें एक भाई अपनी मृत बहन की शव को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से बाइक से घर ले जाते दिख रहा था। वीडियो वायरल होने के बाद आज मामले में सीएचसी अधीक्षक को हटा दिया गया है। बता दे कि जहां यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक द्वारा यूपी में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए लगातार नए-नए कदम उठाए रहे है और फिर इसके बावजूद भी कुछ सरकारी अधिकारी और कर्मचारी ऐसे भीं है जो सरकारी योजनाओं का पलीता लगा रहे है।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दे कि ये मामला यूपी के औरैया जनपद का है जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एंबुलेंस ना मिलने के चलते एक भाई अपनी मरी हुई बहन की लाश को बाइक पर रखकर दुपट्टे से बांधकर अपने घर लेकर जाते हुए दिखाई दे रहा है और इस मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है और इस वीडियो से प्रदेश में हड़कंप मच गई है। वीडियो सोशल मीडियो पर शेयर करते हुए लोगों के द्वारा यूपी के स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर सवाल उठाया गया है और फिर वायरल वीडियो को देखकर डिप्टी सीएम और स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक ने सख्त एक्शन लिया है बुधवार को यानी की कल स्वास्थ्य केंद्र अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक ने मामले का संज्ञान लेते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि सीएचसी अधीक्षक और संबंधित डॉक्टरों को तत्काल वहां से हटाया जाए। साथ ही सभी सीएचसी, पीएचसी को मरीजों के लिए एंबुलेंस सुविधा की उचित व्यवस्था करने के लिए भी कहा हैं। ब्रजेश पाठक की ओर से निर्देश आने के बाद बाद मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ सुनील कुमार वर्मा ने मामले में एक्शन लेते हुए तत्काल प्रभाव से चिकित्सा अधीक्षक अविचल पांडेय को सेवा से हटा दिया है। आपको बता दे कि औरैया के नवीन बस्ती पश्चिम के रहने वाले प्रबल प्रताप सिंह की 20 साल की बेटी अंजलि नहाने के लिए पानी गर्म करने के लिए कमरे में गई। बॉल्टी में पानी गर्म करने के लिए रॉड डाल रखी थी। इसी दौरान अंजलि करंट की चपेट में आ गई। घर वालों ने जब बॉल्टी के पास अंजलि को पड़ा देखा तो घरवाले जब उसे अस्पताल ले गए तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. अस्पताल प्रशासन के मुताबिक, मृतका के परिजन पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते थे. इसलिए बिना बताए खुद से ही डेड बॉडी को लेकर चले गए. हमें बाद में पता चला कि वो लोग बाइक पर बॉडी रखकर ले गए हैं. हालांकि, बाद में कैमरे के सामने मृतका मां और दूसरे रिश्तेदारों ने भी इस बात को स्वीकार किया कि वो अपनी मर्जी से शव को घर लाए थे.

बहन की लाश को  दुपट्टे से बांधकर बाइक पर ले गया भाई

इस वायरल वीडियो में साफ तौर पर  दिखाया गया कि एक युवक अस्पताल के बाहर बहन की लाश को बाइक पर रखकर ले जा रहा है. उसने दुपट्टे से शव को बांध रखा है. बाइक पर पीछे एक लड़की बैठी है, जो शव को संभाले हुए है. आसपास लोगों की भीड़ है. ये दृश्य देखकर सबके चेहरे लटके हुए नजर आ रहे हैं. वहीं भाई काफी ज्यादाा रोते-बिलखते हुए बाइक चला रहा था इस वीडियो के बारे में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक द्वारा बताया गया कि एंबुलेंस आदि की कोई मांग नहीं की गई थी. खुद मृतका के परिजनों ने पोस्टमार्टम ना कराने के लिए लिखकर दिया था. वो अपनी मर्जी से बॉडी लेकर गए थे. एंबुलेंस मुहैया ना कराने के आरोप सरासर गलत हैं. मृतका के भाई व बहन अपनी मर्जी से अंजली को बाइक से अपने घर लेकर चले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here